Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

19.3.08

करोड़ों -करोड़ शुभेच्छाएं होली , ईद-ए-मिलादुन्न्बी और गुड फ्राईडे एक साथ ....



मुझे हमेशा से इस बात पर गर्व रहा है कि मैं भारत जैसी इंद्रधनुषी वैचारिकता और संसकृतियों वाले देश में पैदा हुआ । बस हमारा ही देश है जहां अगर हम जाति धर्म भाषा और क्षेत्र के मुद्दों पर एक दूसरों से लड़ते हैं तो वहीं दूसरी ओर एक दूसरों के त्योहारों की खुशियों को बांटने से भी पीछे नहीं हटते हैं ,यही बात हमारे पड़ोसी मुल्कों और पूरे संसार को बताती हैं कि हम सब लड़ेंगे भी पर हैं तो हमवतन ही । एकता (कपूर नहीं) हमारी धड़कनों में बसती है । स्वीकारिये आप सब सबके लिये खुशियां लेकर आये त्योहारों की करोड़ों -करोड़ शुभेच्छाएं ,होली, ईद ए मिलादुन्नबी और गुड फ्राईडे एक साथ मनाया जाएगा बस ईश्वर अल्लाह या गौड जो भी तुम्हारा नाम हो(तुम्हे अच्छा लगता हो) से यही प्रार्थना है कि हमारी खुशियां दिन दूनी और रात चौगुनी बढ़ती जाएं ,सब सामान्य जन खुशहाल रहें ।

2 comments:

rakhshanda said...

Khudaa kare aisa hi ho...ham ek hain..hamaare naam,hamaara roop alag hai to kya huaa...hamaari mitti,hamaara vatan ek hai aor ek hi rahegaa...ham to ek doosre ke bina kuchh hain hi nahi..to doori ho bhi kaise sakti hai...hamaare netaa apni apni rotiyaan senkne ke liye hamen ek doosre se judaa karne ki kitni bhi chaalen chal len..ham ek hain aor sada rahenge...jai HIND
u r great bhaiya...
VERY VERY HAPPY HOLI TO U N UR FAMILY..

हरे प्रकाश उपाध्याय said...

ha aapa hm ek hain...ek rhenge....dr. sab...hm ek rhenge....jay..jay...jay....daroo bhauji ki jay