Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.7.08

patrakaar giraftar

APEEL
From Allahabad Press Photographer

Meri samagh mai nahin aa raha ki ise mai vidambana kahun ya Allahabad ki PATRAKAARITA ke durdin…Kal yani 21 July ko Allahabad press photographer association ke president ‘Hemant Chaudhri’ ko police ne kisi Hardcore criminal ki tarah raat ke do baje ghar se utha liya aur subah aanan-phanan main unko IPC ki dhara 253, 307,308 ke tahat court mai pesh kar Naini jail bhej diya…
Hua yoon ki Press Photographer Hemant Chaudhari apne sansthan ke kisi assignment par sham lagbhag 5:30 par Allahabad museum ki tasveer lene gaye saath mai unke Reporter bhi the…tasveer khichne ko lekar vahan guards se kuch kaha suni hui aur guards ne milkar Hemant ji ko kafi buri tarah peeta aur unka camera cheen ne ki koshish kari…kiasi tarah jan bachakar chudhari ne mobile par apne sansthan ko suchit kiya …logon ke aane tak guards wahan se gayab ho chuke the jabki police department ka ek sipahi wahan ruka raha… pahunche patrakaaron ne jab Hemant ko KHUN se lathapath dekaha to unhone mauke par mauzood sipahi ko peet diya aur Sangrahalaya ke officers ko bulane ki mang karne lage par…police aur Adhikariyon ki madhyastata main ye tay hua ki un guards ko kal talab kar unpar karyavahi ki jayegi aur Director of Allahabad museum ne sarvjanik roop se maafi bhi maangi …par raat mai mamla ulat gaya…aur Hemant ko unke ghar se kisi muzrim ki bhanti utha kar jel mai dal diya gaya…
Meri aap sab se ye apeel hain ki kripaya patrakaar biradari is mamle ko Sangan mai le aur Sangam ki is pavitra dharti par Patrakaarita ko kalnkit hone se bachayen…

4 comments:

Rama said...

इसमें पूरे मीडिया जगत को एक साथ होकर पुलिस व प्रशासन के वरिष्ठजनों से मुलाकात कर उचित कार्रवाई की मांग करनी चाहिए. फिर बात न बने तो पूरे मीडिया को प्रशासनिक व पुलिस के सभी कार्यक्रमों का बहिष्कार कर दें. साथ ही जितनी भी पुलिस की कारगुजारियां हैं सभी मीडिया में एक साथ सामने लाई जाएं. कुछ ऐसा ही घटनाक्रम सतना में हुआ है. यहां एक माह से लगातार विरोध चल रहा है. सीएम तक के कार्यक्रम का बहिष्कार किया गया. आखिर टीआई को हटाया गया. लेकिन कार्रवाई नहीं हुई है. विरोध यहां जारी है. जिसकी परिणित सतना में २२ पत्रकारों पर पुलिस द्वारा एक व्यक्ति से इस्तगासा लगवाया गया है. लेकिन हम झुके नहीं हैं. हम सतना के सारे पत्रकार आपके साथ है. नैतिक संबल हमारा आपके साथ है.

Rama said...

इसमें पूरे मीडिया जगत को एक साथ होकर पुलिस व प्रशासन के वरिष्ठजनों से मुलाकात कर उचित कार्रवाई की मांग करनी चाहिए. फिर बात न बने तो पूरे मीडिया को प्रशासनिक व पुलिस के सभी कार्यक्रमों का बहिष्कार कर दें. साथ ही जितनी भी पुलिस की कारगुजारियां हैं सभी मीडिया में एक साथ सामने लाई जाएं. कुछ ऐसा ही घटनाक्रम सतना में हुआ है. यहां एक माह से लगातार विरोध चल रहा है. सीएम तक के कार्यक्रम का बहिष्कार किया गया. आखिर टीआई को हटाया गया. लेकिन कार्रवाई नहीं हुई है. विरोध यहां जारी है. जिसकी परिणित सतना में २२ पत्रकारों पर पुलिस द्वारा एक व्यक्ति से इस्तगासा लगवाया गया है. लेकिन हम झुके नहीं हैं. हम सतना के सारे पत्रकार आपके साथ है. नैतिक संबल हमारा आपके साथ है.

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

जै हो भड़ास की,पूरी ताकत से जुड़े रहो भाई;एकजुटता का परिणाम भला ही होता है इसलिये मिल कर फाड़ो.......

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) said...

अभिमन्यु भाई,

लडाई जारी रखो ओर फ़ारने से हिचकना मत, मठाधीश की मठगीरि खतम तो समझो राम राज्य हि राम राज्य

जय जय भडास