Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

31.7.08

bhole nahi hai bhole...




buland shahar me budhwaar ko huyi kaawadiye ki maut ke baad ka najaara...

4 comments:

Anonymous said...

ok. I found an information here that i want to look for.

हिज(ड़ा) हाईनेस मनीषा said...

भाई, भोले तो भोले ही हैं दुष्ट तो इनकी भक्ति का दिखावा करने वाले कमीने लोग हैं जो भक्ति की आड़ में ऐसा नुक्सान करते हैं।

Unknown said...

सच कहा दीदी आपने,
ये साले गीदर की औलाद निकम्मे की जमात ससुरे ना काम के ना काज के दुश्मन अनाज के भगवान् के नाम का दिखवाकर कर के समाज में गंदगी तो फैलाते ही हैं साथ ही आम लोगों का जीना भी मुहाल कर देते हैं, कमाल तो राजनेताओं का है जो इनके भावनाओं को कैश कराने के लिए पहले से ही डेरा डाल कर तैयार मिलते हैं. सालों ने पिछले कई दिनों से दिल्ली में लोगों का जीवन मुहाल कर रखा था.
भगवान् के नाम पर लोगों का जीवन दुश्वार करने वाले इन आतंकियों को देशद्रोही करार दे देना चाहिए
जय जय भड़ास

Richa Joshi said...

भोलों की असलियत बयां करने के लिए ये तस्वीरें काफी हैं।