Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

23.7.08

रिश्वत का भूत संसद में

संसद में विश्वास प्रस्ताव पर बहस हुई और समाप्त भी हो गई पर इस दौरान रिश्वत का जो भूत संसद में घुसा उसने समाज में नै बहस शुरू करवा दी। कैसे आया, कौन लाया, क्यों लाया आदि-आदि अनेक ऐसे सवाल हैं जो अपने जवाब मांग रहे हैं। क्या कोई इनका जवाब देगा? शायद कोई भी नहीं, नेता तो कतई नहीं क्योंकि नेता तो अपने क्षेत्र की जनता के प्रति भी जवाबदेह नहीं हैं। तब क्या ये तमाम सारे सवाल अनुत्तरित रह जायेंगे?

2 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

भाईसाहब,भड़ासी जानते हैं इस लिये इस तरह के बचकाने सवाल नहीं करते :)

Unknown said...

भाई,
रुपेश भाई ने सही कहा वैसे एक बात और कि सवाल का जवब मांगने वाले भी तो नंगे ही हैं, वैसे हमारे देश कि ये खासियत है कि उन्हें अपनी नंगीयत नही दिखती है बाकि सारे नंगे।
जय जय भडास