Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

29.7.08

लायनेस क्लब "सिद्धि" ने करुनाकर के लिए इकट्ठा किया दस हज़ार

लायनेस क्लब "सिद्धि" ने करुनाकर के लिए इकट्ठा किया दस हज़ार रूपया। इस क्लब ने भड़ास के मध्यम से इस मुहीम के बारे में जानकारी अमर उजाला में छपी ख़बर को पढने के बाद ली। क्लब की जिला प्रेजिडेंट आभा संघी ने अपनी कमेटी से इस बारे में बिना देर किए बात की और करुनाकर की मदद के लिए लोगों का आव्हान किया। उनकी मुहीम में क्लब के सभी सदस्यों ने पूरा सहयोग दिया और कुल मिलाकर इस समिति ने करुनाकर के लिए १० हज़ार रूपया जामा किया। इसमे सैकडों लोगों ने यथासंभव अपनी मदद दी। उस मदद में १० रूपये से लेकर ५०० रूपये देने वाले लोग भी शामिल थे. आभा जी के पूरी मदद क्लब की सदस्य नलिनी शर्मा ने की. २६ जुलाई को एक स्पेशल कैंप लगाकर करुनाकर के लिए लोगों ने एक बॉक्स में रूपये जमा किए। सभी ने मिलकर करुनाकर के जल्द स्वस्थ हो जाने की kamna भी की । इस muhim को sakar करने के लिए अमर उजाला नॉएडा की रिपोर्टर निशि भाट ने अपना पूरा योगदान दिया। निशि की ज़िंदगी में एक ऐसा वाकया घटा है जिससे वो बहुत दुखी हैं. कुछ माह पूर्व निशि की माँ का निधन कैंसर के चलते हो गया था. अब वो नही चाहती की किसी की माँ भाई बहन इस बीमारी का शिकार हो. हम निशि की इस भावना का तहे दिल से क़द्र करते हैं. हम चाहते हैं की उनकी तरह हिम्मत करके हर कोई किसी की मदद को इसी तरह आगे आता रहे।

अमित द्विवेदी

2 comments:

Unknown said...

अमित जी,
लायनेस क्लब "सिद्धि" की भावनाओं और विचार का हम सम्मान करते हैं, संग ही आभा जी, नलिनी शर्मा, निशि भट के सक्रिय प्रयास का तहे दिल से आदर करते हैं, ये इन लोगों का ही सहयोग और आत्मिक स्नेह है कि हमारा करुनाकर उत्तरोतर सुधार कि और है,
इन लोगों के साथ साथ डॉक्टर रुपेश और अमित जी आप का प्रयास सफल हो और करुनाकर हमारे बीच जल्द से जल्द हो इसकी कामना के साथ.
जय जय भड़ास

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

करुणाकर के स्वास्थ्य में उत्तरोत्तर सुधार हो रहा है लगभग रोज ही हालचाल लेता हूं। खांसी, और खांसी के साथ खून आना बंद है,दर्द समाप्त है और श्वास का तेज चलना भी सुधर गया है कुछ कमजोरी है तो उसमें भी शीघ्र ही सुधार आयेगा। निशि बहन ने गहरे दुःख को समझा यह एक अत्यंत मानवीय पक्ष है उनका,मैं उन्हें ससम्मान प्रणाम करता हूं; सभी सहयोगी जन का आभार......
सप्रेम
डा.रूपेश श्रीवास्तव