Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.4.09

जीवन

आकाश को देख रहा हूँ । कोई छोर नही दीखता । इतना फैला हुआ है ...... डर लग लगता है ।
सोचता हूँ । हमारे अलावा इस ब्रह्मांड में कही और जीवन है ???
अगर नही तो रोंगटे खड़े हो जाते है । इतने बड़े ब्रह्माण्ड में हम अकेले है !विश्वास नही होता ...लगता है , कोई तो जरुर होगा ।
फ़िर सोचता हूँ । आकाश को इतना फैला हुआ नही होना चाहिए । कुछ तो बंधन जरुरी है । भटकने का डर लगा रहता है ।


सुना है पृथ्वी गोल है । हो सकता है , ब्रह्माण्ड भी गोल हो । किसे पता ?? भाई हमारी भी तो एक सीमा है । सबकुछ नही जान सकते । कुछ दुरी तक ही भाग दौड़ कर सकते है । भाग दौड़ करते रहे । इसी का नाम तो जीवन है । इतना सलाह जरुर देना चाहुगा की सबकुछ जानने के चक्कर में न पड़े । यह एक बेकार की कवायद है । इस राह पर चल मंजिल को पाना तो दूर की बात है , खो जरुर देगे ।
इधर ये भी सुनने में आया है की एक क्षुद्र ग्रह पृथ्वी से टकराने वाला है ...शायद २०२८ में !
यह सनसनी है या हकीकत नही पता ।
अगर सनसनी है ...तो है ..पर वास्तव में ऐसा है तो परीक्षा की घड़ी आ गई है ...
इस खबर को सुनकर सुमेकर लेवी वाली घटना याद आती है , जब मै बच्चा था । सुमेकर बृहस्पति से जा टकराया था । यह घटना १९९४ की है । उस समय ऐसी ख़बर सुन डर गया था ।
देखते है ...२०२८ में क्या होता है .......

3 comments:

दर्पण साह "दर्शन" said...

bahut vistarit cheez ki bahut choti post...

"gagar main sagar"

satya.... said...

jee mark sahab aap to hamesha se re-mark-able baat kahte hain ..bhai sahab bahut log manjil to kho hee chuke hain... dar hai ab rasta khatam na ho jaye .....kam se kam logon ko ak kaam to bacha rahega kee manzil abhi door hai ...khojte rahna hai ...jab kuch kahin takrayega to naya kuch phut kar ban jayega ..chinta mat karen kuch electorn aur proton idhar udhar ho jayega ....aur ak nayi jivan padttti khil jayegi ..yahi to apne bramhand ka niyam hai kee ENERY KABHI KHATAM HEE nahi ho to Jai Mark

शिखा शुक्ला said...

sach kaha apne,pata nahi kitne aur brahmand ho jinme ham jaise kitne hi log rahte ho.sochkar hi vilachan anubhuti hoti hai.