Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

25.1.10

विज्ञापन पर विवाद


अंगरेजी में एक कहावत है “Haste is sure to make us go wrong” और इस कहावत कों चरितार्थ करते हुएदिखी भारत सरकार के द्वारा देश के प्रमुख अखबारों कों दिए गए विज्ञापन |देखने कों कुछ ऐसा मिला जब सरकारके एक प्रमुख अख़बार को दिए सरकारी विज्ञापन में पाकिस्तान के पूर्व एयर चीफ़ मार्शल की तस्वीर होने परविवाद पैदा हो गया | ये विज्ञापन भ्रूण ह्त्या के विरोध में आम जनता से एक अपील है | भ्रूण-हत्या के ख़िलाफ़अपील करने वाला ये विज्ञापन महिला और बाल विकास मंत्रालय ने तैयार किया है|

विज्ञापन में कई जानी-मानी हस्तियों की तस्वीरों के साथ पाकिस्तान के पूर्व एयर चीफ मार्शल तनवीर महमूदअहमद की तस्वीर भी छपी है|इस विज्ञापन में जानी-मानी हस्तियों का उल्लेख देते हुए इन्हें जन्म देने वाली माँकी अहमियत के बारे में बताया गया है और गर्भ में बच्चियों को न मारने की अपील की गई है| इस अपील नेविवाद का दामन पकर लिया है | इसे लापरवाही कहें या भूल , ये बात तो बिलकुल स्पष्ट हो गयी है की सरकार केद्वारा दिए गए विज्ञापनों में अगर ऐसी चूक हो सकती है , तो मीडिया के विश्वसनीयता पर सवाल तो खडा होगा ही |

लेकिन इस बार मीडिया दोषी नहीं है | मौजूदा व्यवस्था के तहत विज्ञापन में छापी जाने वाली सारी सामग्रीडीएवीपी को संबंधित मंत्रालय देता है. डीएवीपी का काम प्रूफ़ के तौर पर विज्ञापन को देखना और फिर छपवाने काहोता है|तो मीडिया इसमें कोई काट छांट कर ही नहीं सकती है |इसे गैर जिम्मेदारी कहें या फिर सरकार कीअनदेखी जिसके कारण ऐसी गलतियां होती है |सरकार ने इस गलती के जांच के लिए कमिटी का गठन भी करदिया है और देश की आम जनता से माफी भी माँगी है |लेकिन सवाल यह खडा होता है की जांच और कमिटियाँ तोमुद्दे के ठन्डे बस्ते में जाने के बाद ज्यादे कुछ कर नहीं पाती है |

विपक्ष कों सरकार के खिलाफ चिल्लाने के लिए मुद्दे चाहिए जो उसे समय समय पर मिलता भी रहता है |भारतीयजनता पार्टी (भाजपा) ने इस पर कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए महिला और बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ कोमंत्रिमंडल से हटाने की माँग की है|आम जनता के मन में प्रश्न यह है की आखिर ऐसी चूक के लिए जिम्मेदार हैकौन ? सरकार ,उसका मंत्रालय या विज्ञापन एजेंसी |आखिर सवाल यह है की पाकिस्तान के पूर्व एयर चीफ़ मार्शलकी तस्वीर को एक मंत्रालय के विज्ञापन में लगाए जाने का क्या उद्देशय है| क्या भारत के वायु सेना अध्यक्ष, थलसेना अध्यक्ष या नौसेना प्रमुख की तस्वीर यहाँ नहीं लगाई जा सकती थी|सरकार इस मामले में अपनी दलील पेशकर रही है ,लेकिन यह तो आम जन की भावना कों आहत करने वाली बात है|

विज्ञापन में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधऩ (यूपीए) की चेयरमैन सोनिया गांधी, भारत कोमें वर्ल्ड कप दिलाने वाली क्रिकेट टीम के कप्तान कपिल देव, बल्लेबाज़ और मौजूदा भारतीय क्रिकेट टीम केउप कप्तान वीरेंदर सहवाग, पद्म विभूषण से सम्मानित सरोद वादक उस्ताद अमजद अली ख़ान और उनके बेटोंअमान और अयान अली बंगश के साथ पूर्व पाकिस्तानी सैन्य अधिकारी की तस्वीर छपी है।
विज्ञापन भले ही अपने मकसद में कामयाब बताया जा रहा हो लेकिन इस गलती की जिम्मेदारी या अपराधबोधजैसी कोई भी बात सरकार की तरफ से नहीं दिखाई दे रही है |आम जनता के मन में एक सवाल घुमर रहा है वो यहकी आखिर ये गलती है किसकी सरकार ,मंत्रालय या विज्ञापन एजेंसी की ?

1 comment:

दिगंबर नासवा said...

कोई ग़लती नही मानेगा ......... कुछ दिनों में मीडीया शांत ........ विपक्ष चुप .......... वैसे ही चलता रहेगा .........