Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.2.11

"साहित्य प्रेमी संघ"

साहित्य समाज का दर्पण होता है,जिसके माध्यम से एक सुव्यवस्थित और सुसंगठित समाज की कल्पना की जा सकती है।
इस दिशा में बस एक छोटा सा प्रयास है मेरा।"साहित्य प्रेमी संघ".....साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त ब्लाग...आप आये और योगदान करे.....आप इस ब्लाग से जुड़े और अपनी साहित्यीक पुष्पों से एक अदभूत खुशबु को फैलाते रहे...यही कामना है मेरी.....निचे दिये लिंक से आप इस ब्लाग पे आ सकते है....और योगदान करने के लिए अपना ई मेल मुझे भेजे...

*साहित्य प्रेमी संघ*

1 comment:

vandan gupta said...

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (28-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/