Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

5.11.12

ये राजनीति है...


एफडीआई और महंगाई पर सरकार के फैसलों के साथ ही भ्रष्टाचार और तमाम घोटालों के आरोप से घिरी कांग्रेस ने न सिर्फ दिल्ली के रामलीला मैदान से देश की जनता को सफाई देने की कोशिश की बल्कि कड़े फैसलों के पीछे सरकार की मजबूरी का भी बखान किया। दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस की सर्वेसर्वा सोनिया गांधी, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ ही कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी ने जनता के सामने न सिर्फ एक के बाद एक सरकार के फैसलों पर सफाई दी बल्कि मुख्य विपक्षी पार्टी भाजपा पर जमकर हल्ला बोला। एफडीआई के मुद्दे पर तो सरकार के तमाम मंत्री दर्जनों बार सफाई दे चुके थे...लेकिन महंगाई पर आज पहली बार सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह ने बात की। हालांकि महंगाई पर ये लोग सिर्फ सरकार की मजबूरी ही सामने रख सके...लेकिन महंगाई से निकट भविष्य में आम जनता को राहत देने जैसी कोई बात इन्होंने नहीं की। हां भ्रष्टाचार को लेकर सोनिया गांधी ने खूब हुंकार भरी और जैसा वो करती आई हैं ठीक उसी तरह भ्रष्टाचार में लिप्त सरकार के नुमाइंदों का बचाव करती दिखाई दी। लेकिन अपनों को बचाने के साथ ही विपक्षियों पर भ्रष्टाचार को लेकर निशाना साधने से सोनिया नहीं चूकी। अच्छा लगा जब एफडीआई और बढ़ती महंगाई पर सरकार का पक्ष रखने कांग्रेस आगे आई...भ्रष्टाचार पर सोनिया का रवैया और तेवर तो काबिले तारीफ थे...लेकिन भ्रष्टाचार की कालिख से अपनों को बचाना और दूसरों पर ताने मारना ये समझ से परे था। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि भ्रष्टाचार सिर्फ कांग्रेस ही नहीं बल्कि अधिकतर राजनीतिक दल और राजनेता इस दलदल में गले तक डूबे हुए हैं...और किसी का भी दामन पाक साफ नहीं कहा जा सकता...लेकिन सोनिया गांधी का ये कौन सा पैमाना है कि खुद के लोगों पर आरोप साबित होने तक वो दोषी नहीं है और दूसरों को आप चिल्ला चिल्ला कर दोषी ठहराएं। वैसे आपके लिए अपने लोग कितने महत्वपूर्ण हैं वो तो आप भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे अपने प्रिय सलमान खुर्शीद को प्रमोशन दे जता ही चुकी हैं...ऐसे में आप जनता के सामने ये चिल्ला चिल्ला कर भले ही कह लें कि भ्रष्टाचार कैंसर की तरह है और आप भ्रष्टाचारियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगी...लेकिन आपके दोहरे रवैये तो देख आप से कम से कम ये उम्मीद करना तो बेईमानी ही होगी कि भ्रष्टाचारियों के खिलाफ आप कोई कार्रवाई करेंगी। खैर इसमें दोष आपका भी नहीं है कमबख्त राजनीति चीज ही ऐसी है कि ये सब करे बिना काम भी तो नहीं चलता।
deepaktiwari555@gmail.com

1 comment:

Gangaprasad Bhutra said...

यह तो एसा ही हुआ न कि आप गुरूजी बैंगन खाए औरों को उपदेश पढ़ाये