Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

21.10.08

होश में आओ ठाकरे

राज तुमने गुंडागर्दी की हद पार कर दी है। ऐसा लगता है तुम्हे उत्तर भारतीय की प्रतिभा सताने लगी है। अरे ठाकरे प्रतिभा का ज़बाब प्रतिभा से दो ना... अगर हम भी तुम्हारी तरह मारपीट पर उत्तारु हो जाए तो तुम्हे दफ़न के लिए दो गज ज़मीं भी ना मिले। पर हम तुम्हारी तरह कायर नही हैं। जिन्ना ने पाकिस्तान को बांटा और तुम हमारे हिंदुस्तान को बाँटने की साजिश करते हो, वो भी सिर्फ़ चंद वोटो के लिए। हिम्मत है तो गरीब मराठी किसान जो भूखे मर रहे है, आत्महत्या करने को मजबूर हैं, उनकी मदद करो... तुम्हे काफी वोट मिलेंगे ।
चंद गुंडों को साथ मिलकर पार्टी बना लेने से कोई नेता नहीं बन जाता... नेता बनने के लिए मर्द बनो इंसान बनो... देश को बाँटने की साजिश बंद करो।

25 comments:

kashiram said...

hairat ki baat yeh hai ki bal thakre bhi raj thakre ki haan me haan mila rahe hain. hindustan ko bantne ki bat karne walo ko sakht saja milni chahiye.

ओंकार देशमुख said...

नमस्कार भडासी...
तुम्हारी भडास सुनकर मुझे बहूत हसी आ रही हे.
एक तो तुम्हारा उत्तर प्रदेश और बिहार सबसे अच्छे land resources होते हुए भी हमारे महाराष्ट्र से और भारत के सभी राज्यों बहूत पिछडे हुए हे.
तुम्हारी सब cities पुणे,मुंबई से बहूत पीछे हे.
इसीलीये तुम लोगोंको हमारे यहा दाना पानी कमाने के लीये आना पडता हे..
और तुम चूहे हमरे ही घर मे आकर हमेही सीख दे रहे हो..इससे अच्छा तु तुम्हरा UP,Bihar Develop क्यो नही करते??
भडासही निकालनी हे तो तुम्हारे Politicians पे निकालो जिन्होने तुम्हे जान बूजकर
Under-Developed रखा हे...

और इसक जवब हिम्मत हे तो मराठी मे ही देना..

ओंकार देशमुख
पुणे
http://pune-marathi-blog.blogspot.com/

ओंकार देशमुख said...

नमस्कार भडासी...
तुम्हारी भडास सुनकर मुझे बहूत हसी आ रही हे.
एक तो तुम्हारा उत्तर प्रदेश और बिहार सबसे अच्छे land resources होते हुए भी हमारे महाराष्ट्र से और भारत के सभी राज्यों बहूत पिछडे हुए हे.
तुम्हारी सब cities पुणे,मुंबई से बहूत पीछे हे.
इसीलीये तुम लोगोंको हमारे यहा दाना पानी कमाने के लीये आना पडता हे..
और तुम चूहे हमरे ही घर मे आकर हमेही सीख दे रहे हो..इससे अच्छा तु तुम्हरा UP,Bihar Develop क्यो नही करते??
भडासही निकालनी हे तो तुम्हारे Politicians पे निकालो जिन्होने तुम्हे जान बूजकर
Under-Developed रखा हे...

और इसक जवब हिम्मत हे तो मराठी मे ही देना..

ओंकार देशमुख
http://pune-marathi-blog.blogspot.com/

Anonymous said...

लगता है केवल राज ही नहीं सभी महाराष्ट्र के लोग पागल होते .

akhilesh kr singh said...

ओमकार देशमुख जी आप के लिए नसीहत है हिन्दी और हिंदुस्तान को समझिये । आप के मराठा स्वाभिमान से बड़ी चीज़ हिंदुस्तान है। जहाँ तक मराठी में लिखने की बात है मैं आप को बता दू श्रीमान मुझे हिन्दी और हिंदुस्तान दोनों ही पसंद है। मराठी की भी मैं इज्जत करता हूँ मेरा विरोध मराठी से नही है।और दोस्त हमें चूहा बोलने की हिमाकत ना करना इन्ही उत्तर भारतीय लोगो की वज़ह से तुम्हारी मुंबई का विकास भी हुआ है। वरना दोस्त महारास्त्र के दुसरे हिस्सों में भी झांक कर देखो, जहाँ किसान आत्महत्या करते है। बिहार या यूपी वाले गरीब ही सही मानसिक तौर पर मजबूत लोग है जो किसी तरह कहीं भी रोज़ी रोटी कमाकर जी लेते है।

और हाँ राज़ जैसे बेवकूफ का समर्थन आपके मानसिक दिवालियेपन की ही निशानी है।

Anonymous said...

kyo bhaai ab Omkar Deshmukh ko bhi to ban kar dena chahiye BHADAS me...ye ek khaas community ko abuse kar rahe hain aur abuse karne waalo ko promote kar rahe hain............kahaa ho bhaai rajneesh aur yashwant jee....

prakash chandalia said...

Yahi to rajniti hai bhaiyya. Aaplog ek dusre pe kataaksh karte rah jayenge, agle chunao me Raj Thakre Chief Minister Ban Jayega aur ban ne ke baad sabse pehle kahega, bihar-up walon ka swagat hai.
Raj thakre se adhik jahreele to Laloo aur Paswaan hain, jinme taaqat nahi ki congress par dabaao daalkar maharashtra ki stithi sambhalen.
Raj Thakre congress ke ishare par apni rajnaetik branding majboot kar rahe hain. Onkar Deshmukh ki baat ka bura nahi maan na chahiye. Unki baat me jamini haquiqat hai. Ise yadi Bihar-Up wale samajh le to aaj unhe anya rajyon me kewal Majduri karne nahi jaana padega.

Anonymous said...

kyo bhaai ab Omkar Deshmukh ko bhi to ban kar dena chahiye BHADAS me...ye ek khaas community ko abuse kar rahe hain aur abuse karne waalo ko promote kar rahe hain............kahaa ho bhaai rajneesh aur yashwant jee....

Omkar Deshmukh said...

so...
the topic is getting hot..
so bhaiyo..
me Pune me 22 sal se reh raha hu.
aabhi aajkal 4-5 saal se Pune aur Maharashtra ke sabhee bade shahar aur gav me UP aur Bihar vale bahut sare log najar aate he..
sabhee jage..joki roti aur paise kamane ke liye yaha aate he..
lekin ye log UP ,Bihar chodake yaha kyo aate he??
inaka javab aapake pas he kya?
agar ye javab aap de sake to UP aur Bihar Maharashtra se bahut aage nikal jaenge..lekin ye bat aapko samaj nahee aa rahee he..
maharashtra me itar rajyose bhi bahot log aate he..lekin vo apani gundagardee yaha nahee dikhate..
Pune me UP aur Bihar se education ke liye BADE bap ke bete aate he..vo yahake residential ilake me rehakar danga fasad karate he..ye aapako vaha baitakr kaise samajega?
isiliye bahut dinose Marathi logome in Students ke khilaf asantosh tha..
aur vo MNS ke andolan ke karan bahar nikala..aur usake shikar asanghatit UP aur Bihar ke majadoor,rikshachalak aur taxichalak bane..
Aur mize mile hue comment me hame "aatankavadi" bataya gaya he..
hamare hi pradesh me hamara hal mangana ye kya atankvad he???

aapke Politicians ne aapke pradesh ka vikas hone nahi diya aur aap hamare maharashtra me aake hamehi seekh de rahe ho??

ye nahi chal sakata na??

you think yourself..

Suitur said...

सही कहा है आपने "जिन्ना ने पाकिस्तान को बांटा और तुम हमारे हिंदुस्तान को बाँटने की साजिश करते हो, वो भी सिर्फ़ चंद वोटो के लिए। हिम्मत है तो गरीब मराठी किसान जो भूखे मर रहे है, आत्महत्या करने को मजबूर हैं, उनकी मदद करो... तुम्हे काफी वोट मिलेंगे ।"

Suitur said...

सही कहा है आपने "जिन्ना ने पाकिस्तान को बांटा और तुम हमारे हिंदुस्तान को बाँटने की साजिश करते हो, वो भी सिर्फ़ चंद वोटो के लिए। हिम्मत है तो गरीब मराठी किसान जो भूखे मर रहे है, आत्महत्या करने को मजबूर हैं, उनकी मदद करो... तुम्हे काफी वोट मिलेंगे ।"

RAJNISH PARIHAR said...

ओंकार देशमुख का कहना इतना ही ग़लत है की उन्हें कहना नहीं आया....बाकी बात उन्होंने सही उठाई है यदि यूं पी बिहार के नेताओं ने कुछ किया होता तो उन्हें बहार क्यूँ जाना पड़ता....शुक्र की बात ये है की अभी ये सवाल अन्य राज्यों में नहीं उठ रहा है....वैसे बात जायज है...परन्तु हिंसा नहीं होनी चाहिए.....यदि मुंबई वासी कोई गरीब आदमी बिहार जाता है तो उसे मार थोड़े ही देंगे यार.....बिहार वासी अन्य सभी राज्यों में बहुतायत में है.और वहां लोकल लोगों का रोज़गार मार रहे है...रजनीश...

aaj ki Aawaaz said...

मैं तो अब तक दो चार नेताओं और कुछ मजहब से भटके लोगों को ही पागल समझता था ! लेकिन अब इन महाशय को पढ़कर मुझे लगने लगा है कि देश में राज ठाकरे और ओंकार देशमुख जैसे पागलों की गिनती बहुत जरूरी हो गई है ताकि इन सबका एक साथ इलाज़ किया जा सके ! जहाँ तक राज ठाकरे का सवाल है उसकी तुलना शिशुपाल से की जा सकती है बस उसकी गालियाँ गिनी जा रही हैं ! समय आने पर उसका अंजाम भी सामने आएगा ! कुएं का मेढक अपने आप को शेर कहता है ...... है न चुटकुला ..... जब की आज तक कुएं से बाहर नही निकला ! खुदा न खास्ता अगर कभी निकला तो उसकी औकात ये यूं पी के भैया और बिहारी लोग मिनटों में बता देंगे !
ये सिर्फ़ भारत देश ही है जहाँ ऐसे विघटनकारी खटमल को बर्दास्त किया जाता है ! किसी और देश में होता तो कब का सरे आम गोली मार दी गई होती ! किसी भी भाषा को लेकर मेरे मन में कोई दुराग्रह नही है लेकिन मैं पूछना चाहता हूँ कि हम क्यूँ बोलें मराठी ? महाराष्ट्र के लोग जब पंजाब जाते हैं तो क्या पंजाबी बोलते हैं या कोलकाता जाते हैं तो बंगाली बोलते हैं ?
किसी भी प्रदेश के डेवलप होने के अनेक कारण होते हैं , इसमे इतराने जैसी कोई बात नही है ! बिहार में हर साल बाढ़ आती है ...... मै जान सकता हूँ कि मुम्बई में कितनी बार बाढ़ आई है ? अगर अवसर और संसाधन मिले तो ये भैया और बिहारी लोग हर चीज में अपनी श्रेष्टता सिद्ध करते रहे हैं ! अपने आस पास ही देखो ऐसे हजारों लोग मिल जायेंगे ! अब उल्लू को दिखायी ही न दे तो कोई क्या कर सकता है ?

Sameer Srijan said...

सही कह रहे हैं आज की आवाज़ वाले भाई साहब। राज और उनके समर्थक वो खटमल हैं जो अपने खटिये में ही लोगो का खून पीते हैं । इन खटमलो को पटना के गाँधी मैदान में मसल कर मार देना चाहिए।

Sameer Srijan said...

सही कह रहे हैं आज की आवाज़ वाले भाई साहब। राज और उनके समर्थक वो खटमल हैं जो अपने खटिये में ही लोगो का खून पीते हैं । इन खटमलो को पटना के गाँधी मैदान में मसल कर मार देना चाहिए।

Anonymous said...

सही कह रहे हैं आज की आवाज़ वाले भाई साहब। राज और उनके समर्थक वो खटमल हैं जो अपने खटिये में ही लोगो का खून पीते हैं । इन खटमलो को पटना के गाँधी मैदान में मसल कर मार देना चाहिए।

jai said...

sun be aonkar tu indai me rahta hai ye indai hai naki mumbai bhihar is liye hos me aajao warna ye jo "RAJ" TAHKARE HAI NA waqt padne pe nato tumhe pachane ga na to hame.Plz is tahra desh batne ka kam mat karo."Raj" ka samrtan kro ya na karo us se mera koi matlab nahi jo tum apni mumbai me kar rahe ho wha galt hai.tum mumbai me nuksan puchareho to ka tum kisi se puch kar ki tum uttar bharti ho ki nahi. is se kewal mumbai ki chavi kharb ho rahi hai.tum in sab tarah se mumbai wasiyo ka aman chin kharab kar rahe ho.plz is bare me socho ki desh ko kis tarah pawor full baya ja sakata hai.garib log har jagah hai aur ve apna pet palne ki liye desh me khi bhi jaa sakate hai.Agar"RAJ"nahi mane to kisi din ek aam admi ka dimag fir ga to "RAJ" ko lene ke dene pad jayege.is leye sirf desh ke bare me socho.

Anonymous said...

sun be aonkar tu indai me rahta hai ye indai hai naki mumbai bhihar is liye hos me aajao warna ye jo "RAJ" TAHKARE HAI NA waqt padne pe nato tumhe pachane ga na to hame.Plz is tahra desh batne ka kam mat karo."Raj" ka samrtan kro ya na karo us se mera koi matlab nahi jo tum apni mumbai me kar rahe ho wha galt hai.tum mumbai me nuksan puchareho to ka tum kisi se puch kar ki tum uttar bharti ho ki nahi. is se kewal mumbai ki chavi kharb ho rahi hai.tum in sab tarah se mumbai wasiyo ka aman chin kharab kar rahe ho.plz is bare me socho ki desh ko kis tarah pawor full baya ja sakata hai.garib log har jagah hai aur ve apna pet palne ki liye desh me khi bhi jaa sakate hai.Agar"RAJ"nahi mane to kisi din ek aam admi ka dimag fir ga to "RAJ" ko lene ke dene pad jayege.is leye sirf desh ke bare me socho.

Anonymous said...

इस मूर्ख देश विमुख से मेरा एक ही सवाल है .... क्या सारे मराठी महाराष्ट्र में ही सिमटे काम धंधा करते रहते हैं या कभी देश के बाहर यूं एस ए यूं के यूरोप भी गए हैं?
अगर वहाँ के लोग भी उनको मार पीट कर वापस भेजना शुरू कर दे की तुम पिछडे लोग यहाँ क्या कर रहे हो हमारे developed metropolitans के सामने तुम्हारे बोम्बे पूना पिछडे है जाओ वापस जा कर अपना देश ठीक करो यहाँ क्या कर रहे हो why you idiots came here and for what? dont you have job in your own maharashtra? we ever come to your state for damn job? भडास ही निकालनी हे तो तुम्हारे Politicians पे निकालो जिन्होने तुम्हे जान बूजकर Under-Developed रखा हे..और इसक जवब हिम्मत हे तो french german roman italian hebrew etc etc मे ही देना..

तो कैसा रहेगा ????????????????

Anonymous said...

इस मूर्ख देश विमुख से मेरा एक ही सवाल है .... क्या सारे मराठी महाराष्ट्र में ही सिमटे काम धंधा करते रहते हैं या कभी देश के बाहर यूं एस ए यूं के यूरोप भी गए हैं?
अगर वहाँ के लोग भी उनको मार पीट कर वापस भेजना शुरू कर दे की तुम पिछडे लोग यहाँ क्या कर रहे हो हमारे developed metropolitans के सामने तुम्हारे बोम्बे पूना पिछडे है जाओ वापस जा कर अपना देश ठीक करो यहाँ क्या कर रहे हो why you idiots came here and for what? dont you have job in your own maharashtra? we ever come to your state for damn job? भडास ही निकालनी हे तो तुम्हारे Politicians पे निकालो जिन्होने तुम्हे जान बूजकर Under-Developed रखा हे..और इसक जवब हिम्मत हे तो french german roman italian hebrew etc etc मे ही देना..

तो कैसा रहेगा ????????????????

Anonymous said...

इस मूर्ख देश विमुख से मेरा एक ही सवाल है .... क्या सारे मराठी महाराष्ट्र में ही सिमटे काम धंधा करते रहते हैं या कभी देश के बाहर यूं एस ए यूं के यूरोप भी गए हैं?
अगर वहाँ के लोग भी उनको मार पीट कर वापस भेजना शुरू कर दे की तुम पिछडे लोग यहाँ क्या कर रहे हो हमारे developed metropolitans के सामने तुम्हारे बोम्बे पूना पिछडे है जाओ वापस जा कर अपना देश ठीक करो यहाँ क्या कर रहे हो why you idiots came here and for what? dont you have job in your own maharashtra? we ever come to your state for damn job? भडास ही निकालनी हे तो तुम्हारे Politicians पे निकालो जिन्होने तुम्हे जान बूजकर Under-Developed रखा हे..और इसक जवब हिम्मत हे तो french german roman italian hebrew etc etc मे ही देना..

तो कैसा रहेगा ????????????????

Kumar sambhav said...

bhai akhilesh, okar deshmukh bhi raj thakre ki tarah lokpriyeata chatea hai mea puchata hoon kise chetra mea marathiyon ka yogdan up aur bihar walon se jaeda raha hai jis pune ki baat yea kar rahe hain unhe pata hi nahi wahana uttar bhartiyea hi chatra hain jinke passe se wahana ki dukane shoping mall aur kai sari chejan chal rahi hai

ANKUR said...

bal thakre or aj thakre dono he loktantre se khilwaad ker rahe hai lakin pher bhe sarkar unke uper koi action aisa nahi le rah aisa action nahi le rahi hai jis se aage koi bhe aisa kerne ke himmat nahi ker sake,,bharat sabka hai or maharasth bharat me he aata hai,,iskiye us per bhe her bharat wasi ka baraber haq hai,,,,maharasth ke janta ne tu unhe mitthe me mile diya ..abb wo ye sab kerke mhaharasth ko bhe bdnamm kerna chahte hai or is desh ke tukde tukde kerna chahte hai,,bal thakre apne dal o shiv sena batate hai lakin unhe ane dal ka naam ravan sena rakh lena chaiye,,,my name is khan film per bal thakre ne baval macha rakh hai akhir bal thare hai kon,,,??desh malik hai ya pakistan ka ,,jo pakistani player unke merje se khelnge

ANKUR said...

ant bura he hota hai
akhir kab tak hum sab ye tamasha dekhte rahenge.,hum bhale he yaha apne ghar me surakshit baithe ho lakin hume un sab ke fikre hoti hai jo bharat ke maharasth me hai or whaha ke kuch gunde un per atyachar ker rahe hai,,akhir kyu sarkar un per koi soiled action se ghabra rhi hai,,koi bhe ya khai ka bhe ho aaj sab log shanti chahte hai lakin sabke mahahrasth me kevel do logo ne logo ka jeena haram ker rakha hai,,wo chahte hai her kaam unke merje se ho,,kon rahega ,kon jayega,kon khayega,kon peyaega,kon soyega ,kon padhega ya kha padhega,kiski dukan ka naam kya hoga, kon khelega ,kon kaam karega sab unke merje se ho..ager ghar ka bada he aise harket karega tu uski ijjat kon karega,,or pher usse kis shreni me rakha jayega...ko samja sake tu samjao unko..ke bure ka ant bura he hota hai...

ANKUR said...

thakro me nahi hai itne hiimat
bal or raj thakre apne aap ko maharasth ka hiteshi bata ker janta ko pagal bana rah hai,,sach tu ye hai ke itne himmat raj or bat dono thakro me nahi ke bhartiyo ko kahi se bhe bahar nikal sake,,,bas sabhi se nevedan hai ke aise insanno se savdhaan raho or prem ke sath mil julker raho,,,