Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

28.10.08

दीपावली की हार्दिक शुभकामना

सारे भडासियों, जो इस साइट पर अपनी भरपूर भडास निकाल-निकाल कर शायद थक गए होंगे, को मेरी ओर से दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं। साथ ही साथ मेरे साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करने वाले मेरे सहकर्मी बंधुओं - फिलिप आईन्द, रामप्रसाद, सुनील, वीरेन्द्र पासवान, श्रीप्रकाश, श्रीपाल, जीतेन्द्र पाण्डेय, संदीप, अनामिका सिंह, सपना, स्वाति को भी दीपावली की बहुत-बहुत बधाई। मेरे मार्गदर्शक रण विजय सिंह, ईश्वर चंद्र मिश्र, वी. डुंगडुंग को हार्दिक शुभकामनाएं। लक्ष्मी माता आपके घर आएं। आपके घर में धन-धान्य की वर्षा हो। एक अनुरोध है जब आपके घर धन-धान्य आ जाए तो कुछ शेयर मुझे भी ईमानदारी से दे देना। आखिर मेरी ही शुभकामना से आपको इतना मिला है। फिर भी मैं जानता हूं कि आप इतने ईमानदार तो हो ही नहीं सकते कि ईमानदारी से मुझे बता देंगे कि मुझे इतना कुछ मिल गया है। दुनिया अभी इतनी ईमानदार नहीं हुई है और खास तौर पर भारत तो इसमें अग्रणी है। ठीक है अगर शेयर नहीं दोगे कोई बात नहीं कम से कम मेरी शुभकामना तो ले ही लो। पुन: दीपावली की शुभकामना।

2 comments:

ummed Singh Baid "saadahak " said...

भङास मन की उगल दी,और हो गये साफ़.
हमको भी शामिल करें, हम भी मन के साफ़.
हम भी मन के साफ़,डंके की चोट बोलते.
इन्डिया के सारे सिस्टम की पोल खोलते.
पूछे साधक,जितनी फ़ीस है, समझो दे दी.
और हो गये साफ़, भङास मन की उगल दी.

ummed Singh Baid "saadahak " said...

भङास मन की उगल दी,और हो गये साफ़.
हमको भी शामिल करें, हम भी मन के साफ़.
हम भी मन के साफ़,डंके की चोट बोलते.
इन्डिया के सारे सिस्टम की पोल खोलते.
पूछे साधक,जितनी फ़ीस है, समझो दे दी.
और हो गये साफ़, भङास मन की उगल दी.