Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.5.08

चंबल की घाटी में कवि सम्मेलन

चंबल की घाटी में कवि सम्मेलन
भिंड (म.प्र.)- चंबल की घाटी में जिला भिंड से ६० किलोमीटर दूर सुरम्य नगरी लहार में मां मंगला देवी मेले में एक अखिल भारतीय कवि सम्मेलन प्रशासन की ओर से आयोजित किया गया, जिसमें ओमपाल सिंह निडर (फिरोजाबाद), सुश्री व्यंजना शुक्ला (लखनऊ), गौरव सिंह चौहान (इटावा), सुरेन्द्र यादवेन्द्र (कोटा) ने काव्य पाठ किया। पं. सुरेश नीरव के सफल संचालन में यह कवि सम्मेलन भोर की किरण तक प्रातः ३.०० बजे तक चला

2 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

भइया, जो जो इलाके सरकार ने दस्युग्रस्त घोषित कर रखे हैं हर उस जगह कवि सम्मेलन करवाया जाए ताकि डाकू इन दिल लूटने वाले कवियों से घबरा कर अपना काम बदल लें.... ;-)

Unknown said...

पंडित जी प्रणाम.
आप को सफलतापूर्वक कार्यक्रम की सम्पन्नता पर बधाई.
वैसी डॉक्टर साब की बात बड़ी सच्ची है, सच में चम्बल तो इन दस्यु मित्रों से खाली हो गया होगा ;-) बेचारे भाग गए होंगे कहीं.
भागो डाकू लोगों कवि लोग आ गए, सुना सुना कर कवि बना देंगे.
डाकू बने रहने है तो नौ दो ग्यारह हो लो.

जय जय भडास