Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

27.5.08

कालिया से हुए पत्र व्यवहार का अप्रकाशित अंश.....

कालिया से हुए पत्र व्यवहार का अप्रकाशित अंश.....

हृदयेंद्र....
pata nahi kis manch se yaswant ko maine apna neta maana hai...ye aaphi behtar bata sakte hain...ek baar bhi unhe bachaane ki koshish nahiki...na muje kisi se kuch jaanana hai. behad gusse me hain. aapko honabhi chahiye....kahte hain ki gusse me vivek kaam nahi karta..theekwahi hai....itna muje bhi pata hai....takleef itne thi ki bahubetiyaan is chechaledar ka hissa ban rahi hain...ek varisht hone kenaate unka samman karta hun....sach jald hi saamne aa hi jayega...firwahi...certificate...chichla patrakaar..kahtey hain choron ko sabhinajar aatey hain chor....kripa karke apney baare me banaye gayevicharon ko mujh par naa thopein....aapko is samay sabhi maje lenewale lag rahe hongey...insaan hone ke naatey aapki manahsthiti samajhsakta hoon...chaliye apni hi harkaton sey sabke saamne nangeyhuye..accha hai...devghar aur patna ke chochley yahan nahi chalengeybandhu....kisi galatfahmi ka shikaar na rahiyega.....ye chelageerikarne me yakeen nahi karta....apne cheleon ko ye gur dijiye...aapkobhagwaan bhi nahi bacha sakta....(apni chichlipana, kuntha, kamingi aur dusri buraaiyaan apne paas hirakho dost....tumhari beevi aur saare sambandhi to ek ek kar nangey horahe hain....aisa hamaare yahan begairat kahe jaaney wale logon kesaath hota hai....) waakai jiski ijjat hi na ho usey ijjat ka kyadar...jiyo mere buddhijeevi laal.....) ummid hai apni kaminagi se muje bhavisya me door rakhogey....mail kajawaab paane ki wakai iksha nahi hai...

kaaliya अविनाश ...
एक बात और बंधु हृदयेंद्र जी, आप अपने मित्र यशवंत के जिन आरोपों की ओर इशारा कर हैं, और जो आपके लिए यशवंत दादा हैं, उन्‍होंने मेरे चरित्र के बारे में जानने के लिए बनारस के पत्रकार श्‍यामल जी का जो हवाला दिया है और जिनका नंबर 09450955978 भी सार्वजनिक किया है, बेहतर हो - आप उनसे ही पूछें।

kaaliya अविनाश ..
शुक्रिया आपकी भाषा आपका परिचय दे रही है।

hridayaendra.....
hai naa....parichay hi kaafi hoga...apni hasiyat ko lekar bahut sachetrahta hun...isiliye tum gareebon ko samjhata hun..ki meri haisiyat ki kadra karna seekho mere laal..bade besharm ho.....maanana padega....matlab...logon ko uksaaogey gaaliyaan dene ke liye...(apne ghatiya dimaag ko sahi jagah laago..to shayad tumhare saath log tumhari maa, bahan aur betiyon ki ijjat baksh dein)...............jeewan me mile pahle aise aadmi ho jo sasti lokpriytakey liye apni patni tak ko chauraahe par nanga karwa sakta hai....u r a great ......yaar kyun mail karne me jute ho...kaam karo apna...tumhare saath..baat karke main bhi tumhare jaisa hi kuch ghatiya ban sakunga....kyun..

ये उस नीच इंसान के साथ बेहद निजी पत्रोतर का मजमून है...एक सवाल सबसे....nijta ka makhaul udana..dusron ko kunthit karaar dena...sansadiya bane rahkar saare asansadiya kaam karna....ki pragatisheelta ka parichay dete hain aur insey blog jagat ka kya bhala hoga....

mitron behad niji patra vyavhaar ko sirf apney faayde aur blog jagat mein teji se lokpriya ho rahe bhadas ko kisi bhi keemat par rasatal par le jaaney ki ghatiya koshishon ke tahat....bewajah muje is vivaad mein is neech aadmi ne ghaseeta...is insaan par kya hum sabko pratibandh nahi laga dena chahiye....


hridayendra
fuhaar.blogspot.com

5 comments:

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

भाई, ये लतखोर कलुआ यशवंत दादा को दादा कहे जाने और भड़ास के दुनिया के सबसे बड़े ब्लाग बनने से चिढ़ा है....

रजनीश के झा said...

भैये,
अपनी उर्जा चिल्हारों से उलझ कर व्यय मत करो. ये ससुरा गंध है बदबू ही फैलाएगा. हम क्योँ बदबू लें. इस चुतिये को किसी ने दादा नहीं कहा, इसका ब्लोग ठुक गया तो इतना चिढ, अरे चुतिये चिल्हड़ पत्रकार, पत्रकारिता के दुर्योधन गांड मरवा के भी यशवंत के घुटने तक पहुंच जाओ तो समझो की तुमने वैतरणी पार कर ली

जय जय यशवंत
जय जय भडास

bambam bihari said...

Phad diya, bahut acche.

कठपिंगल said...

भाई साहब, आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि भड़ास पर रंगभेद का मुक़दमा होने जा रहा है। इस मामले में तीन साल की जेल होती है। जहां जहां कालिया लिखा है - मिटा दीजिए। ये गुप्‍त सूचना है, सिर्फ़ आपलोगों के लिए।

डॉ.रूपेश श्रीवास्तव(Dr.Rupesh Shrivastava) said...

बेटा,कठपिंगल क्या हुआ जो यहां भी चोंच मारने आ गये,जानते तो हम हैं कि तुम कौन और क्या हो? लेकिन ध्यान रखना कि हम तो ऐसे लोग हैं कि अगर प्यार आ गया तो सांप को भी पाल लेते हैं और अगर खुपड़िया खिसक गयी तो कब्र से मुर्दे को भी निकाल कर लतिया के वापस दफ़न कर देते हैं जरा सम्हल कर रहना वरना सोच लो कि पिछाड़ी से डाला मुंह से ही निकलेगा..... तुम पहली ऐसी दुरात्मा हो जिसे मैं सीधे बात कर रहा हूं वरना मेरे पास बड़े इंजेक्शन भी हैं....