Bhadas ब्लाग में पुराना कहा-सुना-लिखा कुछ खोजें.......................

22.2.08

सृजनगाथा : प्रसंगवश

कितना उचित है उपजाऊ भूमि पर उद्योग लगाना - तनवीर जाफ़री

यह आलेख अपने चार भाइयों के साथ सृजन गाथा में मौजूद है ।

इस आलेख पर मेरी टिप्पणी है:-"इसी लिए लोग बंजर ज़मीन को भी नही छोड़ते "

2 comments:

अविनाश वाचस्पति said...

बात में आपकी दम है
ज़मीन कैसी भी हो
कहीं भी हो
कीमत नहीं होती कम है

गिरीश बिल्लोरे मुकुल said...

KYA BAAT HAI